अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस 2022

अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस 2022

अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस 2022:- अंतर्राष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस हर साल 26 जून को मनाया जाता है। नशीली वस्तुओं और पदार्थों के निवारण हेतु ‘संयुक्त राष्ट्र महासभा’ ने 7 दिसम्बर, 1987 को प्रस्ताव संख्या 42/112 पारित कर हर साल 26 जून को ‘अंतर्राष्ट्रीय नशा व मादक पदार्थ निषेध दिवस’ मानाने का निर्णय लिया था। यह एक तरफ़ लोगों में चेतना फैलाता है, वहीं दूसरी ओर नशे के लती लोगों के उपचार की दिशा में भी महत्त्वपूर्ण कार्य करता है।

अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस 2022

अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस 2022 मुख्य बिंदु :-

तिथि 26 June
विवरण नशीली वस्तुओं और पदार्थों के निवारण हेतु ‘संयुक्त राष्ट्र महासभा’ ने 7 दिसम्बर, 1987 को प्रस्ताव संख्या 42/112 पारित कर हर वर्ष ’26 जून’ को ‘अंतर्राष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस’ मनाने का निर्णय लिया था।
अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस की शुरुआत1987
अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस का मुख्य उद्देश्य यह दिवस एक तरफ़ लोगों में चेतना फैलाता है, वहीं दूसरी ओर नशे के लत लोगों के उपचार की दिशा में भी महत्त्वपूर्ण कार्य करता है।
अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस 2022 की थीम“स्वास्थ्य और मानवीय संकटों में मादक द्रव्य चुनौतियों का समाधान” (“Addressing drug challenges in health and humanitarian crises”)

अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस 2022 :-

हर साल 26 जून को विश्व स्तर पर “नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस” या “विश्व ड्रग दिवस” के रूप में मनाया जाता है। यह दिन दुनिया को नशीली दवाओं से मुक्त करने के लिए किए जा रहे कार्यों और सहयोग के विभिन्न प्रयासों का प्रतीक है। बता दें कि विश्व ड्रग दिवस की शुरुआत 26 जून 1989 को हुई। जबकि नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के उत्सव को 7 दिसंबर, 1987 को संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा पारित प्रस्ताव 42/112 के तहत पारित किया गया था। आइए आज के इस आर्टिकल में जानते हैं कि वर्तमान स्थिति में नशीली दवाओं के दुरुपयोग और विश्व स्तर पर इस बुराई से लड़ने के लिए क्या उपाय किए जा रहे हैं।

अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस 2022 ( मुख्य उद्देश्य )

इस दिवस का मुख्य उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नशीली दवाओं से छुटकारा पाना है तथा समाज में सशक्तिकरण लाना है. इस दिन विभिन्न संगठन अवैध ड्रग्स की चुनौतियों को शांतिपूर्वक संबोधित करने पर जोर देते हैं. उनका मूल सिद्धांत युवाओं की रक्षा करना और मानव जाति के कल्याण को बढ़ावा देना है. यूएनओडीसी ने इस दिन वैश्विक दवा समस्या के बारे में जागरूकता बढ़ाने हेतु अभियान शुरू किया था. प्रत्येक वर्ष संयुक्त राष्ट्र ड्रग्स और क्राइम कार्यालय (यूएनओडीसी) इस दिन के लिए एक विषय (थीम) का चयन करता है.

अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस 2022 ( थीम )

“स्वास्थ्य और मानवीय संकटों में मादक द्रव्य चुनौतियों का समाधान” (“Addressing drug challenges in health and humanitarian crises”)ये विषय दुनिया की वर्तमान स्थिति की ओर ध्यान केंद्रित करने के लिए तय किया गया है जो मानव के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही विनाशकारी है। चाहे वह कोविड 19 जैसी महामारी की बात हो या रूस-यूक्रेन के युद्ध की।

बता दें कि विश्व ड्रग दिवस के इस अवसर पर ड्रग्स एंड क्राइम पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय द्वारा #CareInCrises अभियान चलाया जा रहा है। जिसके अंतर्गत सरकारों, अंतर्राष्ट्रीय संगठनों, और सभी हितधारकों से लोगों की सुरक्षा के लिए तत्काल कार्रवाई करने का आह्वान किया जा रहा है। इसमें ड्रग से रोकथाम और उपचार का उपयोग करना, और अवैध दवा आपूर्ति से निपटना भी शामिल है।

भारत में नशीली दवाओं के दुरुपयोग के खिलाफ पहल :-

नशा मुक्त भारत अभियान :-

नशा मुक्त भारत अभियान या ड्रग्स-मुक्त भारत अभियान देश के 272 जिलों में 15 अगस्त 2020 (स्वतंत्रता दिवस) पर शुरू किया गया था, जो नशीली दवाओं के दुरुपयोग से सबसे अधिक असुरक्षित और प्रभावित पाए गए थे। इसका उद्देश्य शिक्षण संस्थानों के साथ सकारात्मक भागीदारी, जन शिक्षा और स्वच्छता के लिए सामुदायिक जागरूकता कार्यक्रमों और टीआरसी यानी उपचार, पुनर्वास और परामर्श सुविधाओं के एकीकरण के द्वारा भारत को एक दवा मुक्त देश बनाना है।

नशीली दवाओं की मांग में कमी के लिए राष्ट्रीय कार्य योजना :-

2018-2025 के लिए नशीली दवाओं की मांग में कमी के लिए राष्ट्रीय कार्य योजना (एनएपीडीडीआर) को सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा अपनाया गया है। इसे लागू किया जाता है:• नशाखोरी के दुष्परिणामों को शिक्षा द्वारा कम करना तथा व्यसन से प्रभावित लोगों के पुनर्वास की व्यवस्था करना।• इसका उद्देश्य केंद्र और राज्य सरकारों और गैर-सरकारी संगठनों के सामूहिक प्रयासों के लिए निवारक शिक्षा, पहचान, परामर्श, उपचार और नशीली दवाओं पर निर्भर व्यक्तियों के पुनर्वास और सेवा प्रदाता के प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण प्रदान करना है।• सरकार एनएपीडीडीआर के तहत वित्तीय सहायता भी प्रदान करती है। देश भर में 500 से अधिक स्वैच्छिक संगठन हैं, जिन्हें वर्तमान में एनएपीडीडीआर योजना के तहत आर्थिक रूप से सहायता प्रदान की जाती है।

नशीली दवाओं के दुरुपयोग से जुड़ी याद रखने योग्य बातें :-

  1. पहली बार 1961 में नारकोटिक ड्रग्स पर एकल सम्मेलन आयोजित किया गया था।
  2. जिसके बाद 1971 में साइकोट्रोपिक पदार्थों पर कन्वेंशन आयोजित किया गया था।
  3. फिर 1988 में स्वापक दवाओं और मन:प्रभावी पदार्थों के अवैध व्यापार के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन आयोजित किया गया था।
  4. भारत तीनों सम्मेलनों का एकमात्र हस्ताक्षरकर्ता है जिसने नारकोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस (एनडीपीएस) अधिनियम, 1985 को साइकोट्रोपिक पदार्थों पर कन्वेंशन के तहत अधिनियमित किया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.