हिमाचल प्रदेश के ग्लेशियर ( हिमनद )

Facebook
WhatsApp
Telegram

Glacier in Himachal Pradesh

HP Glacier | Himachal Pradesh Glacier | हिमाचल प्रदेश के ग्लेशियर | Glacier In HP | Famous Glacier In HP | HP Gk In Hindi | Glacier In Himachal Pradesh

हैलो दोस्तों, कैसे हो आप सब आशा करता हूं कि आप सब ठीक होंगे। आज हम हिमाचल प्रदेश के प्रसिद्ध ग्लेशियर ( हिमनद ) Glacier in Himachal Pradesh के बारे में पढ़ेंगे। Glacier in Himachal Pradesh इस लेख को आप अंत तक जरूर पढें यहां से Himachal Pradesh के हर Competitive Exam में एक न एक प्रशन देखने को मिलता है। Glacier in Himachal Pradesh यह लेख आपको पसंद आए तो अपने दोस्तों के साथ जरूर Share करें।

Glacier in Himachal Pradesh
Glacier in Himachal Pradesh

Himachal Pradesh में ग्लेशियर को स्थानीय भाषा में ” शिगडी ” कहा जाता है।

ग्लेशियर को हिमनद के नाम से भी जाना जाता है। ग्लेशियर नदियों को पानी देते हैं, व नदियों के उद्गम का प्रमुख स्त्रोत हैं।

हिमाचल प्रदेश में स्थित हिमनद (शिगड़ी) निम्न है।

लाहौल का बड़ा शिगड़ी हिमनद ( BARA SHIGRI GLACIER ) :

हिमाचल प्रदेश के लाहौल स्पीति में स्थित यह प्रदेश का सबसे बड़ा हिमनद है । जिसकी लम्बाई 25 किलोमीटर तथा चौड़ाई 3 किलोमीटर है । यह मुख्य हिमालय के मध्य की ढलान पर स्थित है । इस ग्लेशियर से चंद्र नदी को पानी मिलता है। कहा जाता है कि वर्ष 1936 में इस ग्लेशियर ने चंद्रा घाटी में भारी तबाही मचाई थी , जिसके परिणामस्वरूप बाद में चंद्रताल झील का निर्माण हुआ ।

चंद्रा घाटी के लाहौल क्षेत्र के अन्य प्रमुख ग्लेशियर हैं –

छोटा शिगड़ी , पाचा , कुल्टी , शिपतिंग , दिंगकर्मो , तापन , गेफेंग , शिल्ली , बोलुनाग तथा शामुद्री ।

पार्वती ग्लेशियर ( Parvati Glacier )

पार्वती ग्लेशियर से पार्वती नदी को पानी मिलता है। ग्लेशियर कुल्लू जिले में स्थित है। इस ग्लेशियर की लंबाई 15 किलोमीटर है।

भादल ग्लेशियर ( Bhadal Glacier )

बड़ा भंगाल ( कांगड़ा ) के पास स्थित है। इस ग्लेशियर से भादल नदी को पानी मिलता है। जो रावी नदी की एक बड़ी सहायक नदी भी है।

दूधोन ग्लेशियर ( Dudhon Glacier

दूधोन ग्लेशियर से पार्वती नदी को पानी मिलता है। यह ग्लेशियर कुल्लू जिले में स्थित है। इस ग्लेशियर की लंबाई 15 किलोमीटर है।

भागा ग्लेशियर ( Bhaga Glacier )

भागा ग्लेशियर लाहौल स्पीति जिला में स्थित है। इस ग्लेशियर से भागा नदी का उद्गम होता है। इस ग्लेशियर की लंबाई 25 किलोमीटर है।

पतन घाटी में स्थित अन्य ग्लेशियर :-

शिप्ला, कुक्टी, लेंगर धोकसा व निंलकण्ड।

भागा घाटी के प्रमुख ग्लेशियर :-

मिलांग, मुक्किला, लेडी ऑफ केलांग तथा गेंगस्तांग।

लेडी ऑफ केलांग ग्लेशियर ( The Lady Of Keylong Glacier )

यह ग्लेशियर लाहौल स्पीति जिले में स्थित है। इसलिए सिर्फ की समुद्र तल से ऊंचाई 6,061 मीटर है । इस ग्लेशियर को लाहौल स्पीति के केलांग कस्बे से बड़ी आसानी से देखा जा सकता है। इस ग्लेशियर का नामकरण ” द लेडी ऑफ केलांग ” अंग्रेजी महिला लेडी एलशेनदे द्वारा 19वीं शाताब्दी में अंग्रेजी शासन के समय किया गया था। यह ग्लेशियर वर्ष भर बर्फ से ढका रहता है। उसके मध्यकाल में कुछ बर्फ पिघलने पर इसकी आकृति एक महिला की तरह दिखाई देती है, जो अपनी पीठ पर बाहर उठाए हुए हो। भारतीय भू – सर्वेक्षण संस्थान के पास भी यह ” लेडी ऑफ केलांग ” के नाम से पंजीकृत है।

ब्यास कुंड ग्लेशियर ( Beas Kund Glacier )

यह ग्लेशियर कुल्लू जिला के रोहतांग पास के समीप स्थित है। इस ग्लेशियर से ब्यास नदी को पानी मिलता है।

मुक्किला ग्लेशियर ( Mukila Glacier

यह ग्लेशियर लाहौल स्पीति में स्थित है। इस ग्लेशियर से भागा नदी को पानी मिलता है। स्प्लेश्य की समुद्र तल से ऊंचाई 6478 मीटर है।

सोनापानी ग्लेशियर ( Sona Pani Glacier )

यह ग्लेशियर कुल्टी नाला के संगम से लगभग 5.30 किलोमीटर दूर है, जिसका दो बार सर्वेक्षण किया जा चुका है । प्रथम बार सन 1906 में वॉकर व पास्को द्वारा तथा दूसरी बार सन 1957 में भारतीय भू गर्व सर्वेक्षण के कुरिअन और मुंशी द्वारा। सोनापानी ग्लेशियर रोहतांग दर्रे से सपष्ट दिखाई देती है।

चंद्रनाहन ग्लेशियर ( Chandra Nahan Glacier )

चंद्रनाहन ग्लेसियर मुख्य हिमालय के दक्षिण पूर्व की ढलान में जिला शिमला के रोहडू क्षेत्र के उत्तर-पश्चिम में स्थित है। यह ग्लेशियर पब्बर नदी को पानी देता है। कई अन्य छोटे-छोटे ग्लेशियर चंद्रनाहन ग्लेशियर के साथ जुड़े हुए हैं । इस ग्लेशियर के समीप ही चंद्र नाहन झील स्थित है। इस ग्लेशियर के चारों तरफ बर्फ से ढकी हुई ऊंची ऊंची चोटियों स्थित है जिसकी ऊंचाई 6000 मीटर या इससे अधिक है।

पिराड़ ग्लेशियर ( Perad Glacier )

पिराड़ ग्लेशियर छोटा तथा आसान पहुंच में पुतिरुणी के समीप स्थित है। पिराड़ का स्थानीय भाषा में अर्थ है – ” टूटी हुई चट्टान ” जिसकी एक सुंदर गुफा बनी हो।

ऊपर वर्णित हिमनदों के अतिरिक्त और भी मध्यम एवम् छोटे आकार के हिमनद हैं , जो कई नदियों को संचित करते है । इनमें प्रमुख हैं- तिछु ग्लेशियर , सराउंमगा ग्लेशियर , दक्षिण धाका ग्लेशियर , उत्तरी लेशियर , चांदी का ग्लेशियर , सामुद्रतपा ग्लेशियर , तारागिरि ग्लेशियर , रायगढ़ ग्लेशियर , तपनी – लाहुनी लेशियर , शिल्ली लालुनि ग्लेशियर , शान ग्लेशियर , शिपतिंग ग्लेशियर इत्यादि ।

>>> हिमाचल प्रदेश सामान्य ज्ञान (Complete Notes)

Read More

200+ Himachal Pradesh One Liner Gk Questions
Top 70+ HP History Important Questions 
हिमाचल प्रदेश के प्रमुख दर्रे Important Questions
Himachal Gk Most Important Question PDF
100 HP GK Questions in Hindi 2022
200 HP GK Pdf in Hindi

Join Us

Join Us On TelegramClick Here
Join Us On InstagramClick Here
Join Our Whatsapp GroupClick Here

Leave a Comment